नई दिल्लीराष्ट्रीय

किसान आंदोलनकारियों ने टिकैत का छोड़ा साथ अधिकांश किसानों ने किया टिकैत का विरोध

किसान आंदोलनकारियों ने टिकैत का छोड़ा साथ अधिकांश किसानों ने किया टिकैत का विरोध

किसान आंदोलनकारियों ने टिकैत का छोड़ा साथ अधिकांश किसानों ने किया टिकैत का विरोध

(फ़ोटो-अमर उजाला)

प्रदीप विधूड़ी नई दिल्ली

राजधानी दिल्ली के बॉर्डर पर तीन कृषि कानून वापसी को लेकर एक साल से चल रहे किसान आंदोलन मैं किसानों ने उस वक्त बड़ी राहत की सांस ली। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन कृषि कानूनों को वापस ले लिया। इसी बात को लेकर एमसी गोपीचंद इंटर कॉलेज के प्रांगण में पांच बजे न्यूज़ चैनल रिपब्लिक भारत का लाइव प्रसारण बहस का विषय किसानों से जुड़ा था। यह प्रोग्राम एक दिसंबर पांच बजे हुआ था। जिसकी एंकर हिमानी ने किसानों के बारे में चर्चा पर सवाल पूछे और कहा कि अब तो प्रधानमंत्री मोदी जी ने तीन कृषि कानूनों को वापस ले लिया है। ऐसे में बॉर्डर पर बैठे किसानों को अपने घर उठकर चले जाना चाहिए। क्योंकि संयुक्त मोर्चा के राकेश टिकैत और किसान आंदोलन कारियों ने कहा था कि जब तक कानून वापस नहीं होंगे तब तक किसान अपने घरों की वापसी नहीं करेंगे लेकिन अब तो प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया और तीन कृषि कानून बिल वापस ले लिए। देखा जाए तो काफी किसान बॉर्डरों से उठकर अपने-अपने घरों की वापसी करने लगे। तभी राकेश टिकैत की बौखलाहट सामने आ गई। और टिकैत को लगा कि मुद्दा हाथ से निकलता जा रहा है। इसी बात को लेकर काफी गर्मागर्म बहस हुई बहस के दौरान रामेश्वर एनसीआर अध्यक्ष भाकियू भानु भगत सिंह एनसीआर अध्यक्ष शिक्षक प्रकोष्ठ भाकियू भानु और भी खेड़ी गांव के सदस्य बहस में किसानों के लिए साथ रहे।भगत सिंह तौंगड खेडी एनसीआर अध्यक्ष शिक्षक प्रकोष्ठ व दिल्ली प्रवक्ता, उन्होंने बताया कि लंबे समय तक किसानों को सड़कों पर बैठना आम जनता के लिए बहुत परेशानी की बात हो गई हैं सड़कें जाम हैं ट्रैफिक बहुत ज्यादा बढ़ गया है आने जाने में लोगों को परेशानी हो रही है। जो लोग मिलते हैं वहां के निवासी हैं उनके बिजनेस ठप हो चुके हैं बाहर दुकानों पर ताले लग चुके हैं बेरोजगारी का आलम है ,उन्होंने कहा जल्दी से जल्दी आंदोलन समाप्त होना चाहिए क्योंकि भारतीय सरकार ने किसानों की ज्यादातर मांगें मान ली हैं इसी में ही सबका हित है।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close