एक्सक्लूसिवनई दिल्ली

9यूनिकॉर्न्स ने 100 मिलियन डॉलर के पांचवें समापन की घोषणा

9यूनिकॉर्न्स ने 100 मिलियन डॉलर के पांचवें समापन की घोषणा

9यूनिकॉर्न्स ने 100 मिलियन डॉलर के पांचवें समापन की घोषणा

गोविंद कुमार नई दिल्ली

09 मई, 2022 भारत के अग्रणी अर्ली-टू-ग्रोथ स्टेज एक्सेलरेटर फंड 9यूनिकार्न्स ने अपने पहले 100 मिलियन डॉलर के फंड जुटाए जाने की प्रक्रिया के समापन की घोषणा की है। फंड ने अब तक 110 से अधिक आइडिया और प्रॉडक्ट स्टार्टअप्स में निवेश किया है, जिसमें वेदांतु, शिपरॉकेट, शॉपकिराना जैसे कुछ ग्रोथ स्टेज / सीरीज सी कंपनियां शामिल हैं।

इस फंड को 2020 के अंत में 50 मिलियन डॉलर की पूंजी के साथ लॉन्च किया गया था और भारतीय स्टार्टअप पारितंत्र में मौजूद समग्र सकारात्मक भावना के दम पर फंड के वर्तमान पोर्टफोलियो प्रदर्शन ने 9यूनिकॉर्न्स की फंडिंग को दोगुना करते हुए इसे 100 मिलियन डॉलर के स्तर पर पहुंचा दिया।

एक्सेलरेटर फंड ने अब तक 110 से अधिक सौदों में निवेश किया है। यह आइडिया स्टेज में 500 हजार से 1 मिलियन डॉलर का निवेश करने की योजना बना रहा है और इस वर्ष उच्च-विकास चरण सीरीज सी और उससे ऊपर के स्टार्टअप में 2 मिलियन डॉलर तक का निवेश करने की योजना है। फंड ने वेदांतु, मेलोरा, शिपरॉकेट, रेशमांडी, बिडानो, ब्लूस्मार्ट, IGP.com, फार्म्स, इंस्टोरिड और गोकी जैसे स्टार्टअप्स में निवेश किया है।

इस फंड का फोकस डीपटेक, एंटरप्राइज सास, वेब 3.0, फिनटेक, मीडिया, इंश्योरटेक, हेल्थटेक, एडुटेक और डी2सी स्टार्टअप्स पर केंद्रित है।

पांचवें समापन पर टिप्पणी करते हुए, 9यूनिकॉर्न के प्रबंध निदेशक और संस्थापक डॉ. अपूर्व रंजन शर्मा ने कहा, “आइडिया स्टेज फंडिंग को फिर से परिभाषित करने के हमारे अनूठे दृष्टिकोण ने हमारी रणनीति में विश्वास करने वाले कई प्रमुख एलपी के साथ फंड आकार में वृद्धि की है। इसके अलावा, पिछले साल फंडिंग की बहुलता के साथ स्टार्टअप इकोसिस्टम के लिए सबसे अच्छे समय में से एक था। हमने 2021 में 101 सौदों में निवेश किया और इस साल उस राशि को दोगुना करने की योजना बनाई है। हम अगले साल के मध्य तक फंड को तैनात (निवेश करना) करने की प्रक्रिया को पूरी कर लेंगे, जिसके बाद हम अपने दूसरे फंड को लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं।”

9यूनिकॉर्न्स पोर्टफोलियो में शामिल कुछ अग्रणी नाम

वैश्विक एलपी द्वारा समर्थित, 9यूनिकॉर्न्स की यूएसपी इस तथ्य में निहित है कि यह स्टार्टअप्स को महानगरों से बाहर के शहरों में अपने विशाल भारतीय व्यापारिक समुदायों में संभावनाओं का दोहन करने की अनुमति देता है जिससे वे पूरे भारत में जा सकें। यह सीधे शुरुआती ग्राहकों को प्राप्त करने, वितरण भागीदारी, स्टार्टअप के लिए क्रॉस-पोर्टफोलियो तालमेल की अनुमति देता है, जो अपने पारितंत्र में 5500 से अधिक निवेशकों, संस्थापकों और अधिकारियों के पहले से मौजूद नेटवर्क का लाभ उठाता है।

9यूनिकॉर्न्स की मजबूती और ध्यान राजधानी से बाहर स्टार्टअप्स के लिए व्‍यावहारिक सहयोग पारितंत्र पर है। प्रत्येक पोर्टफोलियो कंपनी को राजस्व समर्थन (अपने व्यापार नेटवर्किंग समुदाय के माध्यम से 5 मिलियन राजस्व वृद्धि), डी डे (900 से अधिक वीसी के साथ ग्लोबल डेमो डे), सी डे (100 से अधिक कॉरपोरेट सीएक्सओ के साथ कॉरपोरेट डेमो डे), प्रतिभाओं की तलाश (1000 से अधिक सीनियर लीडर्स का प्रतिभा पूल) और वीनेटवर्क (पोर्टफोलियो और संरक्षकों के बीच आंतरिक नेटवर्किंग मंच) तक पहुंच प्राप्त होती है।

निवेश प्रतिबद्धता/सेक्टर फिनटेक, क्रिप्टो, डीपटेक, एंटरप्राइज एसएएएस, वेब 3.0, फिनटेक, मीडिया, इंश्योरेटेक, हैल्थटेक, एडुटेक और डी2सी समेत 110 से अधिक स्टार्टअप्स
मुख्य निवेश वीडियोवर्स, क्लब, रेने, केंको, फिटरफ्लाई, रेशामंडी, वेदांतु, शिपरॉकेट, शॉपकिराना, माय फिटनेस
मूल्यांकन (राउंड) 35 अपराउंड
सह निवेशक सह-निवेशक सिकोइया सर्ज, वाईकॉम्बिनेटर, मैट्रिक्स पार्टनर्स, नेक्सस वेंचर पार्टनर्स, लाइट्सपीड, फायरसाइड वेंचर्स और लाइटबॉक्स

संस्थापक संस्थापक डॉ अपूर्व रंजन शर्मा, अनिल जैन, अनुज गोलेचा, गौरव जैन

पार्टनर्स पार्टनर्स राजेश माने, अभिजीत पाई, प्रवेश यू मेहता, मनोज अहीरे, धर्मेश गठानी

शुरुआती चरण में 9 यूनिकॉर्न की मजबूती : आइडिया और प्रॉडक्ट स्टेज फंडिंग!
9यूनिकॉर्न्स भारत में सीड फंडिंग (शुरुआती चरण) के अंतर को कम करने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। डेटा प्लेटफॉर्म ट्रैक्‍सन के अनुसार भारत में 209,000 से अधिक स्टार्टअप हैं। फिर भी केवल 1,535 स्टार्टअप ही सीड फंडेड हैं, जो बमुश्किल 0.73% है, जबकि यूएस और चीन में यह क्रमश: 5.1% और 7.2% है।

9 यूनिकॉर्न्स मासिक रूप से 700 से अधिक स्टार्टअप तक पहुंच की कोशिश करते हुए उसकी समीक्षा कर रहा है ताकि भारत में सीड फंडिंग में और सुधार सुनिश्चित किया जा सके, और अधिक संस्थापकों को स्थानीय और वैश्विक समस्याओं को हल करने के लिए फंडिंग और संसाधनों तक पहुंच प्राप्त हो।

130 मिलियन डॉलर के लिए फंड का वर्तमान विस्तार यह सुनिश्चित करता है कि 9यूनिकॉर्न्स भारतीय सीड फंडिंग क्षेत्र में मौजूद अंतर को पाटने में सक्षम है।

भारत में स्टार्टअप्स की संख्या 209,000
भारत में< 1मिलियन डॉलर वाले सीड फंडेड स्टार्टअप्स की संख्या 1,535
भारत में स्टार्टअप सीड फंडिंग का प्रतिशत 0.73%
अमेरिका में स्टार्टअप सीड फंडिग का प्रतिशत 5.1%
चीन में स्टार्टअप सीड फंडिंग का प्रतिशत 7.2%

9यूनिकॉर्न्स ने 9180 से अधिक स्टार्टअप की समीक्षा की है, और 110 सौदों में निवेश किया है। यह सीरियल उद्यमियों को अपनी अगली पारी शुरू करने, शीर्ष संस्थानों से सर्वश्रेष्ठ तकनीकी प्रतिभा और भारत में टियर II, III शहरों से सबसे बदलाव लाने वाले स्टार्टअप को आकर्षित करने में सक्षम है।

पोर्टफोलियो संस्थापकों में से एक राजस्व आधारित वित्त फर्म क्लब के संस्थापक अनुरक्त जैन ने कहा, ”9 यूनिकॉर्न्स क्लब के लिए शुरुआती दिन से एक प्रमुख समर्थक रहा है। 9 यूनिकॉर्न्स की टीम संस्थापकों से उद्यमियों की टीम की तरह है। 9 यूनिकॉर्न्स के नवीनतम फंड को 50 मिलियन से बढ़ाकर 100 मिलियन डॉलर कर दिया गया है, जिससे उन्हें वित्तपोषण के बाद के दौर में महत्वपूर्ण रूप से पोर्टफोलियो में दोगुना करने में सक्षम बनाया गया है। मौजूदा बाजारों में, किसी भी स्टार्टअप में उनके जैसा दीर्घकालिक प्रतिबद्ध भागीदार होना बेहद जरूरी हो गया है।’’

एक अन्य पोर्टफोलियो संस्थापक डॉ. अरबिंदर सिंघल हैं, जो योग्यता के आधार पर एक बाल रोग सर्जन हैं, और एक दोगुने सफल उद्यमी हैं जिन्होंने कुछ साल पहले एक इंटरनेट स्टार्टअप बेचा था।

टॉप टियर फंडों के साथ सह-निवेश करने के लिए “9यूनिकॉर्न्स की कार्यविधि उल्लेखनीय है। यह वीसी पारिस्थितिकी तंत्र में सबसे संस्थापक अनुकूल टीमों में से एक है। जैसा कि हम सबसे बड़े डिजिटल हैल्थकेयर प्लेटफॉर्म में फिटरफ्लाई का निर्माण करते हैं, उनकी साझेदारी और कई दौर में निर्णय लेने की गति कुछ ऐसी है जिसे मैं हमेशा सबसे महत्वपूर्ण गुणवत्ता के रूप में पहचानूंगा।”

9 यूनिकॉर्न्स के विषय में
9यूनिकॉर्न्स भारत का पहला चरण और किसी सेक्टर विशेष तक केंद्रित नहीं रहने वाला एक्सेलरेटर वीसी है। यह शुरुआती और विकास चरण के स्टार्टअप को सहायता और शुरुआती फंडिंग प्रदान करता है। 9यूनिकॉर्न्स पहले दौर में प्रति स्टार्टअप 300 हजार से 1 मिलियन डॉलर की फंडिंग प्रदान करता है और अपने सह-निवेशकों के साथ बाद के दौर में 500 हजार- 2 मिलियन डॉलर के निवेश करने की योजना बना रहा है। विचार के चरण से विकास के चरण तक, यह विभिन्न विषयों और क्षेत्रों में स्टार्टअप का समर्थन करता है।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close